RSS Feed

Monthly Archives: March 2012

Whoever said you can’t buy happiness forgot little puppies. Gene Hill

Posted on
Image

Pencil sketch by Indira

HAIKU-

Very cute puppies

Came to spread message of love

Like God sent angels.

इंसानियत

Posted on

इंसानियत और हैवानियत कभी मरती नहीं
बस जिन्दा दफन रहती हैं
जिस पर जितनी मिटटी डालो वो उतना ही गहरे दब जाती है
ये हम पर है हम किसे बाहर लाना चाहते हैं
इंसानियत पर से मिटटी उठा कर
हैवानियत पर उसे डाल गहरे दबा सकते हैं
या इसका उल्टा कर सकते हैं

जब भी आप मैं कोई अन्याय होता देख
मुहं फेर के चले जाते हैं तो
एक मुठ्ठी रेत इंसानियत की कब्र पे डाल
उसे और गहरे दबा देते हैं
हैवानियत खड़े हंस रही है
कोई अच्छा कर्म कीजिये
इंसानियत पर से एक मुठ्ठी रेत उठा कर
हैवानियत पर दे मारिये
उसे दफ्न कर दीजिये
फैसला हमारे हाथ है
हम किसे जिन्दा रखना चाहते हैं
बहुत बड़ा कुछ नहीं करना है
बस किसी रोते को हँसाना है
किसी गिरते को सहारा देकर
किसी का हौसला बढाकर
अपना कर्तव्य निभाना है
अपने आसपास से ही ,
छोटी छोटी बातों से शुरू कर
बड़े लक्ष्य की ओर जाना है
अपने अन्दर ही इंसानियत को जगाये रखना है|

Sulah/सुलह

Posted on

क्या हुआ जो हर सपना पूरा ना हुआ,
जो मिला उसको अपना सपना मान लिया,
जिन्हें पास लाती गयी जिंदगी
उन्हीं को अपना मान लिया
यूं तो रोते रहने से
कुछ ना हासिल होता
जिंदगी ने मेरी
और
मैंने जिंदगी की
हर बेवफाई को
कोई मजबूरी मान लिया

 

A Collection of Button Art

Posted on

A Collection of Button Art.

Look at the trees, look at the birds, look at the clouds, look at the stars… and if you have eyes you will be able to see that the whole existence is joyful. Everything is simply happy. Trees are happy for no reason; they are not going to become prime ministers or presidents and they are not going to become rich and they will never have any bank balance. Look at the flowers – for no reason. It is simply unbelievable how happy flowers are. ~Osho

Posted on

Landscape-Watercolor by Indira

A HOPE for TODAY- Hope Unites Globally Awards

Posted on

Dear friends my friend AutumnSunshine has nominated me for HUG award.I am happy but speechless .Thanks A.S. for thinking that I deserve this. I am honored.

“HOPE UNITES GLOBALLY” award was initiated by Connie Wayne at A Hope For Today at http://ahopefortoday.com, which promotes hope,love,peace,equality and unity for all people.

The HUG Award© is for people with an expectant desire for the world, for which they: Hope for Love; Hope for Freedom; Hope for Peace; Hope for Equality; Hope for Unity; Hope for Joy and Happiness; Hope for Compassion and Mercy; Hope for Faith; Hope for Wholeness and Wellness; Hope for Prosperity; Hope for Ecological Preservation; Hope for Oneness

The HUG Award© is for people who, without giving up or compromising their own religious, spiritual, or political beliefs, are able to nurture hope and respect the dignity of all people.

For more information please visit- http://ahopefortoday.com/2012/01/14/hope-unites-globally-hug-award-guidelines/.

My Nominatios-

1- Somkritya- http://somkritya.wordpress.com

2- LScott- http://lscotthoughts.com

3- AutumnSunshine- http://autumnsunshineandgabrielleangel.wordpress.com

4- Sheen- http://bloodinkdiary.wordpress.com

5-Vampire Weather- http://vampireweather.wordpress.com

6- granbee- http://granbee.wordpress.com

7- http://justsimplyinlove.wordpress.com

 

मैं भेज रहा हूँ तुमको, तुम भी मुझको होली भेजो…

Posted on

Your comments (optional)होली पर उपेन्द्रजी की भेंट ,बहुत खूबसूरत कविता ,मेरे साथियों को जरूर पसंद आएगी

उलझे शब्द

कल रंगों की क्यारी में,
न जाने कितने ही रंग खिलेंगे ?
उस नन्हे सिमटे आँगन में,
न जाने कितने ही रंग गिरेंगे ?
दहलीज़ रंगी होगी कुछ से,
कुछ से दीवारें रंग जाएँगी |
कुछ हथेलियाँ गालों पर तो,
कुछ तुमको भी नहलायेंगी | |

ये रंग पर्व की बात तुम्हारा,
मन मटमैला करती होगी |
जब यादों की नन्ही गुडिया,
श्वेत तर्जनी धरती होगी | |
रोती होगी तुम भी छुपकर,
कमरे के उस कोने में |
जब गुलाल की डली बिखरती,
होगी स्वप्न सलोने में | |

पर दूर यहाँ इस दामन में,
क्या कम यादें बिखरेंगी ?
क्या ये रंग उनसे कम होगा,
जो तुमको कल रंग देंगी ?

उन रंगों की खातिर मुझको,
इस बार वही होली भेजो |
उन यादों में लिपटी उन्हीं,
रंगों की एक डोली भेजो | |

मैं भेज रहा हूँ तुमको , तुम भी मुझको होली भेजो ….

आज यहाँ पर…

View original post 113 more words

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 1,453 other followers