Monthly Archives: April 2012

The only way to get through life is to laugh your way through it. You either have to laugh or cry. I prefer to laugh. Crying gives me a headache.”
― Marjorie Pay Hinckley

somkritya

Daddy Longlegs was sitting on his net and browsing through his past

He wanted to do something which would make him big pretty fast

 

He looked around and saw a fly buzzing around

Suddenly his brain was shaken by ideas abound

 

Hi said Daddy long legs, it’s nice to see you miss fly

Do come to my web and give it a try

 

I am well aware of my ill reputation

That is why am sending you an open invitation

 

Bring in  media if you still have some doubts

I hope it will douse your fears if you have them as scouts

 

Hesitant at first the fly still agreed to meet

She never knew a spider can be so generous and sweet

 

Fly was warned of spider’s ill intentions and of the
agendas hidden

But isn’t there a charm in exploring the forbidden!

 

I…

View original post 174 more words

मन कभी बूढ़ा नहीं होता

मन कभी बूढ़ा नहीं होता तन बूढ़ा होता है , मन तो हमेशा यही कहता है-

चुराके तितलियों से रंग,फूलों से गंध
नाचूं बगिया में भंवरों के संग|
चुराके बादलों से नमी, हवा से मस्ती,
नाचूं सागर पे लहरों के संग|
चुराके चाँद से चांदनी ,रात से अँधेरा,
नाचूं नभ में तारों के संग|
चुराके कोयल से मिठास,
रचके खुशियों के गीत,
छेड़ूं मीठी मीठी तान सबके संग|

मिर्ज़ा ग़ालिब से क्षमा याचना सहित


मैं भी मुह मैं जुबां रखता हूँ
काश पूछो की माज़रा क्या है
जबकि तुम बिन नहीं कोई मौजूद
फिर ये हंगामा ,ए खुदा क्या है

—————————-

सब हैं अपनी सुनाने को बेताब यहाँ
कोई पूछे कैसे की माजरा है क्या
अपने गम से ही सब है मारे हुए
तेरे गम की खबर रखे कोई क्या
रोजी रोटी की खातिर बस गए सब यहाँ और वहां
किसी को किसी का आसरा है क्या
भूले बिसरे जो याद करले कोई
उसीका शुक्रिया अदा  कर

किसीसे कोई शिकवा करना क्या