RSS Feed

Tag Archives: hindi kavita

Safar/ सफ़र

Posted on

सफ़र

मंजिल तो हर कोई देखो एक ना एक दिन पायेगा

कैसे बीता था सफ़र याद ये रह जायेगा
कौन था सफ़र में साथ,कौन साथ छोड़ गया
बना कौन सफ़र में सीढ़ी कौन हाथ छोड़ गया
लेखा जोखा इतना ही याद बस रह जायेगा
कैसे बीता था सफ़र याद ये रह जाएगा |
मुश्किलों में डटे रहे या थक के हाल छोड़ दिया
फूल मिले खुश रहे या काँटों ने तोड़ दिया
कैसे काटा था समय याद ये रह जायेगा
कैसे बीता था सफ़र याद ये रह जायेगा |
रास्ते अनेक थे मंजिल को पाने के
तुमने राह नेक चुनी थी मुकाम पाने को
अलग राह जो चले थे उनसे बवाल किया
या बिना मलाल तुमने सबको स्वीकार किया
राह कटी कैसे थी याद ये रह जाएगा
कैसे बीता था सफ़र याद ये रह जाएगा
मंजिल तो हर कोई देखो एक ना एक दिन पायेगा |

~ इंदिरा 

Advertisements

APNI JANG/अपनी जंग

Posted on

अपने अपने आंसुओं को आँख में ही थाम रखो
कौन समझेगा तेरे आंसुओं का मोल यहाँ
सब उठाये फिरते हैं अपने दुखों का सलीब
कौन साथ दे और मरहम लगाएगा यहाँ
जो साथ आये रोने वो कम ग़मगीन न थे
जो भी रोया साथ आपबीती पे रोयेगा यहाँ
जोश भर हिम्मत जगा अपनी जंग खुद ही लड़,
है सबकी अपनी अपनी जंग हौसला कौन देगा यहाँ
अपने दुखड़े सुना सुना दूसरों को पस्त न कर
कौन सुने तेरी सुनाने को सब बेताब यहाँ
करोड़ों हड़प के भी नहीं मिटती है भूख उनकी
कौन तय करेगा असली भिखामंगा है कौन यहा
~ indira

cat on the beech

सीपियाँ/Indira's Hindi blog

अपने अपने आंसुओं को आँख में ही थाम रखो
कौन समझेगा तेरे आंसुओं का मोल यहाँ
सब उठाये फिरते हैं अपने दुखों का सलीब
कौन साथ दे और मरहम लगाएगा यहाँ
जो साथ आये रोने वो कम ग़मगीन न थे
जो भी रोया साथ आपबीती पे रोयेगा यहाँ
जोश भर हिम्मत जगा अपनी जंग खुद ही लड़,
है सबकी अपनी अपनी जंग हौसला कौन देगा यहाँ
अपने दुखड़े सुना सुना दूसरों को पस्त न कर
कौन सुने तेरी सुनाने को सब बेताब यहाँ
करोड़ों हड़प के भी नहीं मिटती है भूख उनकी
कौन तय करेगा असली भिखामंगा है कौन यहाँcat on the beech

View original post

Ho Na Ho- हो ना हो

Posted on

नज़रों से नज़रें मिलीं,
दिल ने दिल से बात की ‘
शब्द अर्थहीन लगें
हों ना हों |

दोनों ने एक दूजे को,
प्यार दिया, मान दिया
सौगातों की दरकार क्या ,
हों ना हों |
मन मिले, मिले विचार,
जिन्दगी से आत्मा,
तन की बिसात  क्या ,
हो ना हो |

दोस्ती जनम जनम की,
जिन्दगी भी जी ही लिए
मौत से अब डरना क्या ,
हो तो हो |

सीख

Posted on

किसी के आंसू पोंछ
किसी को दे हंसा
जीवन तो यही है
बाकी सब असार है
दुःख बाँट बढ़े नहीं
सुख बाँट घटे नहीं
जिन्दगी का फलसफा
बड़ा मजेदार है
बीत गया बात गयी
आगे को चलाचल
पीछे मुड़ देखना
एकदम बेकार है
जीवन एक लड़ाई है
खुद अपने आपसे
रोज़ एक नया है द्वन्द
यही तो संसार है
बंजारा घूम घूम

सीख है बटोरता
उन्हींसे  करता
अब ये व्यापर है
भाये तो खरीदलो
बदले में सीख देना
आज नगद और
कल उधार  है.
Light Words

Better Living Through Beauty, Wisdom and Whimsey

mslazyboots

Let's take a walk up the street

Thought trail

Trail of stories, poems, observations and more!

Ramblings of a Writer

Living the Path of Life

IDLE BRAIN

random thoughts, creative writing

whippetwisdom.com

Insights from fast dogs who think deeply

In the joy of others lies our own

Happiness, Pure Love, Kindness, Spirituality

SKYLINE REPORTS

comedy magazine

MounterWorld

My Favorite things

Law of attraction & wellbeing

fb.me/aspiritualdirection

saywhatumean2say

I'm soo soo TIRED!

Bad Dad Cartoons 101

Bad dad cartoons 101 and other funny stuff, disclaimer: may contain occasional Junior High humor

Love it Now

Love is ever-present within our own Being but we might not feel it until we live in the Now. "Love it Now" was created to share ideas about loving and being present in the here and now. Enjoy!

The Petaluma Spectator

Scenes & Stories...Petaluma & Northern California

कल्पवृक्ष

शब्दों के आँगन में हो एक कल्पवृक्ष मेरा भी.......

Knowing and Understanding the English Language

Funny How English Language Works!

Sketches By Nitesh

Pen and Ink Sketches. Poetry. Fiction. Life Musings.

realove4ever

kuch najar nahi aata ek uske sivay